अमीर मीनाई शायरी – आख़िरी वक़्त भी पूरा न

आख़िरी वक़्त भी पूरा न किया वादा-ए-वस्ल
आप आते ही रहे मर गये मरने वाले – अमीर मीनाई