अमीर मीनाई शायरी – आया न एक बार अयादत

आया न एक बार अयादत को तू मसीह
सौ बार मैं फ़रेब से बीमार हो चुका – अमीर मीनाई