अमीर मीनाई शायरी – उस की हसरत है जिसे

उस की हसरत है जिसे दिल से मिटा भी न सकूँ
ढूँडने उस को चला हूँ जिसे पा भी न सकूँ – अमीर मीनाई