अमीर मीनाई शायरी – जवाँ होने लगे जब वो

जवाँ होने लगे जब वो तो हमसे कर लिया परदा
हया यकलख़्त आई और शबाब आहिस्ता आहिस्ता – अमीर मीनाई