अमीर मीनाई शायरी – पूछा न जाएगा जो वतन

पूछा न जाएगा जो वतन से निकल गया
बे-कार है जो दाँत दहन से निकल गया – अमीर मीनाई