अमीर मीनाई शायरी – लुत्फ़ आने लगा जफ़ाओं में

लुत्फ़ आने लगा जफ़ाओं में
वो कहीं मेहरबाँ न हो जाए – अमीर मीनाई