अमीर मीनाई शायरी – वाए क़िस्मत वो भी कहते

वाए क़िस्मत वो भी कहते हैं बुरा
हम बुरे सब से हुए जिन के लिए – अमीर मीनाई