अल्लामा इक़बाल शायरी – सौ सौ उमीदें बंधती है

सौ सौ उमीदें बंधती है इक इक निगाह पर
मुझ को न ऐसे प्यार से देखा करे कोई – अल्लामा इक़बाल