अल्लामा इक़बाल शायरी – हया नहीं है ज़माने की

हया नहीं है ज़माने की आँख में बाक़ी ,
खुदा करे की जवानी तेरी रहे बे-दाग . – अल्लामा इक़बाल