अहमद फ़राज़ शायरी – अब उसे रोज न सोचूँ

अब उसे रोज न सोचूँ तो बदन टूटता है फराज
उमर गुज़री है उस की याद का नशा किये हुए । – अहमद फ़राज़