अहमद फ़राज़ शायरी – काफ़िर के दिल से आया

काफ़िर के दिल से आया हूँ मैं ये देख कर
खुदा मौजूद है वहाँ, पर उसे पता नही…!!! – अहमद फ़राज़