अहमद फ़राज़ शायरी – कितना खौफ़ होता है शाम

कितना खौफ़ होता है शाम के अंधेरों में फ़राज़
पूछ उन परिंदों से जिन के घर नहीं होते – अहमद फ़राज़