अहमद फ़राज़ शायरी – किसी को घर से निकलते

किसी को घर से निकलते ही मिल गई मंज़िल
कोई हमारी तरह उम्र भर सफ़र में रहा! – अहमद फ़राज़