अहमद फ़राज़ शायरी – जब तलक दूर है तू

जब तलक दूर है तू तेरी परस्तिश कर लें
हम जिसे छू ना सकें, उसको खुदा कहते हैं – अहमद फ़राज़