अहमद फ़राज़ शायरी – बंदगी हम ने छोड़ दी

बंदगी हम ने छोड़ दी है फ़राज़
क्या करें लोग जब ख़ुदा हो जाएं – अहमद फ़राज़