अहमद फ़राज़ शायरी – ये एक शब की मुलाक़ात

ये एक शब की मुलाक़ात भी गनीमत है
किसे है कल की खबर थोड़ी दूर साथ चलो – अहमद फ़राज़