अहमद फ़राज़ शायरी – हुआ है तुझ से बिछड़ने

हुआ है तुझ से बिछड़ने के बाद ये मालूम
कि तू नहीं था तिरे साथ एक दुनिया थी – अहमद फ़राज़