इरफ़ान सिद्दीक़ी शायरी – सब को निशाना करते करते

सब को निशाना करते करते
ख़ुद को मार गिराया हम ने – इरफ़ान सिद्दीक़ी