इक़बाल अज़ीम शायरी – हम बहुत दूर निकल आए

हम बहुत दूर निकल आए हैं चलते चलते
अब ठहर जाएँ कहीं शाम के ढलते ढलते – इक़बाल अज़ीम