क़तील शिफ़ाई शायरी – अपने होंठों पर सजाना चाहता

अपने होंठों पर सजाना चाहता हूँ
आ तुझे मैं गुनगुनाना चाहता हूँ – क़तील शिफ़ाई