क़तील शिफ़ाई शायरी – थक गया मैं करते-करते याद

थक गया मैं करते-करते याद तुझको
अब तुझे मैं याद आना चाहता हूँ – क़तील शिफ़ाई