क़तील शिफ़ाई शायरी – यह ठीक है नहीं

यह ठीक है नहीं मरता कोई जुदाई में
खुदा किसी से किसी को मगर जुदा न करे । – क़तील शिफ़ाई