क़तील शिफ़ाई शायरी – सुनता हूँ अब किसी से

सुनता हूँ अब किसी से वफ़ा कर रहा है वो
ऐ ज़िन्दगी खुशी से कहीं मर न जाऊँ मैं – क़तील शिफ़ाई