क़तील शिफ़ाई शायरी – हालात से ख़ौफ़ खा रहा

हालात से ख़ौफ़ खा रहा हूँ
शीशे के महल बना रहा हूँ – क़तील शिफ़ाई