क़ाबिल अजमेरी शायरी – कौन याद आ गया अज़ाँ

कौन याद आ गया अज़ाँ के वक़्त
बुझता जाता है दिल चराग़ जले – क़ाबिल अजमेरी