कैफ़ी आज़मी शायरी – बस इक झिझक है यही

बस इक झिझक है यही हाल-ए-दिल सुनाने में
कि तेरा ज़िक्र भी आएगा इस फ़साने मे – कैफ़ी आज़मी