कैफ़ी आज़मी शायरी – हर कदम पर उधर मुड़

हर कदम पर उधर मुड़ के देखा
उनकी महफ़िल से हम उठ तो आए – कैफ़ी आज़मी