ख़ुमार बाराबंकवी शायरी – इस सलीक़े से उनसे गिला

इस सलीक़े से उनसे गिला कीजिए
जब गिला कीजिए, हँस दिया कीजिए – ख़ुमार बाराबंकवी