ख़ुमार बाराबंकवी शायरी – फूल कर ले निबाह काँटों

फूल कर ले निबाह काँटों से
आदमी ही न आदमी से मिले – ख़ुमार बाराबंकवी