जिगर मुरादाबादी शायरी – आदमी के पास सब कुछ

आदमी के पास सब कुछ है मगर,
एक तन्हा आदमिय्यत ही नहीं…!! – जिगर मुरादाबादी