जिगर मुरादाबादी शायरी – क्या बराबर का मोहब्बत में

क्या बराबर का मोहब्बत में असर होता है
दिल इधर होता है ज़ालिम न उधर होता है – जिगर मुरादाबादी