जिगर मुरादाबादी शायरी – जब मिली आँख होश खो

जब मिली आँख होश खो बैठे
कितने हाज़िर-जवाब हैं हम लोग – जिगर मुरादाबादी