जिगर मुरादाबादी शायरी – दिल में किसी के राह

दिल में किसी के राह किए जा रहा हूँ मैं
कितना हसीं गुनाह किए जा रहा हूँ मैं – जिगर मुरादाबादी