जिगर मुरादाबादी शायरी – मिल के भी जो कभी

मिल के भी जो कभी नहीं मिलता
टूट कर दिल उसी से मिलता है – जिगर मुरादाबादी