जौन एलिया शायरी – अब मिरी कोई ज़िंदगी ही

अब मिरी कोई ज़िंदगी ही नहीं
अब भी तुम मेरी ज़िंदगी हो क्या – जौन एलिया