दाग देहलवी शायरी – फलक देता है जिसको ऐश

फलक देता है जिसको ऐश उसको गम भी देता है,
जहाँ बजते हैं नक्कारे, वहीं मातम भी होते हैं। – दाग देहलवी