दाग देहलवी शायरी – ये मज़ा था दिल्लगी का

ये मज़ा था दिल्लगी का कि बराबर आग लगती।
न तुम्हें क़रार होता न हमें क़रार होता ।। – दाग देहलवी