दाग देहलवी शायरी – ले चला जान मेरी रूठ

ले चला जान मेरी रूठ के जाना तेरा
ऐसे आने से तो बेहतर था न आना तेरा – दाग देहलवी