दुष्यंत कुमार शायरी – इस नदी की धार में

इस नदी की धार में ठंडी हवा आती तो है ….
नाव जर्जर ही सही, लहरों से टकराती तो है – दुष्यंत कुमार