दुष्यंत कुमार शायरी – इस रास्ते के नाम लिखो

इस रास्ते के नाम लिखो एक शाम और
या इस में रौशनी का करो इंतिज़ाम और – दुष्यंत कुमार