दुष्यंत कुमार शायरी – इस शहर मे वो कोई

इस शहर मे वो कोई बारात हो या वारदात,
अब किसी भी बात पर खुलती नहीं हैं खिड़कियाँ.. – दुष्यंत कुमार