दुष्यंत कुमार शायरी – मेरे सीने में नहीं तो

मेरे सीने में नहीं तो तेरे सीने में सही,
हो कहीं भी आग, लेकिन आग जलनी चाहिए.. – दुष्यंत कुमार