दुष्यंत कुमार शायरी – ये रौशनी है हक़ीक़त में

ये रौशनी है हक़ीक़त में एक छल लोगो
कि जैसे जल में झलकता हुआ महल लोगो – दुष्यंत कुमार