नक़्श लायलपुरी शायरी – पलट कर देख़ लेना जब

पलट कर देख़ लेना जब सदा दिल की सुनाई दे।।
मेरी आवाज़ में शायद मेरा चेहरा दिख़ाई दे।। – नक़्श लायलपुरी