नक़्श लायलपुरी शायरी – मैं दुनिया की हक़ीकत जानता

मैं दुनिया की हक़ीकत जानता हूँ
किसे मिलती है शोहरत जानता हूँ – नक़्श लायलपुरी