नासिर काज़मी शायरी – अपनी धुन में रहता हूँ मैं

अपनी धुन में रहता हूँ
मैं भी तेरे जैसा हूँ! – नासिर काज़मी