नासिर काज़मी शायरी – ज़रा सी बात सही तेरा

ज़रा सी बात सही तेरा याद आ जाना
ज़रा सी बात बहुत देर तक रुलाती थी – नासिर काज़मी