नासिर काज़मी शायरी – नई दुनिया के हंगामों में

नई दुनिया के हंगामों में ‘नासिर’
दबी जाती हैं आवाज़ें पुरानी – नासिर काज़मी