नासिर काज़मी शायरी – ‘नासिर’ हम को रात मिला

‘नासिर’ हम को रात मिला था तन्हा और उदास
वही पुरानी बातें उस की वही पुराना रोग – नासिर काज़मी