नासिर काज़मी शायरी – हाल किस से कहूं कि

हाल किस से कहूं कि हर कोई
अपनी अपनी सुनाए जाता है – नासिर काज़मी